रविवार, 14 नवंबर 2010

चाचा के देश में बचपन बेहाल

भारत में होती है सबसे ज्यादा शिशुओं की मौत
रायटर्स :
बच्चों से बेशुमार स्नेह रखने वाले चाचा नेहरू के देश में बचपन बेहाल है। दुनियाभर में पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों की मौत सबसे ज्यादा भारत में होती है। इस तरह की मौत का मुख्य कारणघर पर बच्चा पैदा करने की व्यवस्था और मेडिकल सुविधाओं की कमी होना है। यह बात भारत में हुए एक शोध में सामने आई है। वह भी बाल दिवस से ठीक पहले। गौरतलब है कि जन्म देते समय महिलाओं की मौत के मामले भी सबसे ज्यादा भारत में पाए गए हैं। शनिवार को साइंस पत्रिका द लासेंट में प्रकाशित शोध में निमोनिया, अपरिपक्वता और जन्म के समय बच्चे का कम वजन, डायरिया, संक्रमण, दम घुटना और समय से पूर्व जन्म को बच्चों की मृत्यु का मुख्य कारण बताया गया है। शोधकर्ताओं के मुताबिक बेहतर उपचार व्यवस्था और टीकाकरण कार्यक्रमों में नए टीकों को शामिल करके इन मौत के मामलों में कमी लाई जा सकती है। शोध का नेतृत्व रजिस्टार जनरल ऑफ इंडिया ने किया है। रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2005 में भारत में पांच वर्ष से कम उम्र के 20 लाख 35 हजार बच्चों की मौत हुई थी। यह आंकड़ा विश्व में हुई शिशुओं की मौत का 20 प्रतिशत है। यानी सबसे ज्यादा भारत में। मृतक लड़कियों की संख्या लड़कों से 36 प्रतिशत अधिक थी। इसके लिए देश की सामाजिक परिस्थितियों को जिम्मेदार बताया गया, क्योंकि यहां लड़कों को प्राथमिकता दी जाती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें